There Will Be A Change In The Map Of Shri Ram Madir In Ayodhya Pm Modi Will Visit The Land Worship Of Shri Ram Temple

अयोध्या में श्री राम मदिर के नक्शे में बदलाव होगा,श्रीराम मंदिर के भूमि-पूजन में पीएम मोदी जायेंगे

Modi Ka Samachar Modi News उत्तर प्रदेश समाचार नरेंद्र मोदी मोदी का समाचार मोदी के समाचार मोदी समाचार योगी आदित्यनाथ हिंदी में समाचार हिंदी समाचार

18 जुलाई को अयोध्या में हुई ट्रस्ट की बैठक में श्री राम मंदिर मॉडल तैयार करने वाले चंद्रकांत सोमपुरा के दोनों बेटों निखिल व आशीष सोमपुरा को भी बुलाया गया था .

अयोध्या में श्री राम मदिर के निर्माण का काम जल्दी ही शुरू होने जा रहा है.

उत्तरप्रदेश न्यूज़ : अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण का शुभारंभ बहुत ही जल्दी होने जा रहा है. मिली जानकारी के मुताबिक अगले महीने पांच अगस्त को अयोध्या में राम जन्मभूमि का भूमि पूजन किया जाएगा. भव्य श्री राम मंदिर निर्माण की रूपरेखा पर 18 जुलाई को श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की अहम बैठक हुई. इस बैठक में कई मसलों पर अहम चर्चा हुई. श्री राम मंदिर की भव्यता बढ़ाने के लिए भी कुछ बदलाव किए गए हैं. अब भगवान राम का मंदिर और अधिक ऊंचा व भव्य होगा.

श्री राम मंदिर में कौन -कौनसे बदलाव होने जा रहा है.

अयोध्या में श्रीराम मंदिर की ऊंचाई, चौड़ाई व लंबाई तीनों ही बढ़ाने तैयारी हो रही हैं. साथ ही अब राम मंदिर अब दो मंजिल की जगह तीन मंजिल का होगा. पुराने मॉडल के हिसाब से राम मंदिर की लंबाई 268 फीट 5 इंच थी जो अब 280 से 300 फीट होगी. वहीं, नए राम मंदिर के मॉडल में मंदिर की चौड़ाई बढ़कर 272-280 फीट के आसपास होगी जो पहले 140 फीट थी. इसके अलावा मंदिर की ऊंचाई 128 फीट से बढ़कर 161 फीट होगी. ऊंचाई में 33 फीट की वृद्धि होने से एक और मंजिल बढ़ाई जा रही है. इसके अलावा अब राम मंदिर में तीन गुंबद की जगह नये नक्शे में पांच गुंबद रखे गये हैं. दो मंजिल की जगह अब राम मंदिर तीन मंजिला होगा. पूरे श्री राम मंदिर में 318 स्तंभ होंगे और हर तल पर 106 स्तंभ बनाए जाएंगे.

हालांकि, श्री राम मंदिर का बुनियादी स्वरूप वही रखा गया है जैसा प्रस्तावित मॉडल में था. गर्भगृह और सिंहद्वार के नक्शे में भी कोई बदलाव नहीं होगा. राम मंदिर का अग्रभाग, सिंहद्वार, नृत्य मंडप और रंग मंडप को छोड़कर बाकी सभी हिस्से के नक्शा को बदला जाएगा. आपको बता दे की श्री राम मंदिर के नये नक्शे पर वास्तुकार चंद्रकांत सोमपुरा काम कर रहे हैं.

अयोध्या में श्रीराम मंदिर में यह बदलाव के करने के वजह

अयोध्या में श्रीराम मंदिर का जो मॉडल अब तक सबके सामने मौजूद है वह विश्व हिंदू परिषद के आइडिया पर आधारित है. सुप्रीम कोर्ट से 9 नवंबर 2019 को जब अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण की मंजूरी मिली तो मंदिर की जिम्मेदारी के लिए केंद्र सरकार को एक ट्रस्ट गठित करने के लिए कहा गया. तब केंद्र की मोदी सरकार ने राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट नाम से राम मंदिर ट्रस्ट का गठन किया. अब एहि ट्रस्ट मंदिर निर्माण का सारा कामकाज देख रही है. श्रीराम मंदिर को लेकर लगातार सभी संतो के बीच मंथन भी हो रहा है. संतों की तरफ से राम मंदिर के विस्तार और उसकी भव्यता बढ़ाने की मांग लगातार की जा रही थी.राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने संतों की इस मांग को गंभीरता से लेते हुए अब श्री राम मंदिर के मॉडल कुछ बदलाव करने के फैसले किये हैं. हालांकि, श्री राम मंदिर का मॉडल पहले वाला ही होगा, लेकिन अब मंदिर की भव्यता बढ़ाई जाएगी.

आपको बता दे की 18 जुलाई को अयोध्या में हुई राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक में राम मंदिर मॉडल तैयार करने वाले चंद्रकांत सोमपुरा के दोनों बेटों निखिल आशीष सोमपुरा को भी बुलाया गया था. दोनों ही इंजीनियर हैं. ये दोनों ही मंदिर के नक्शे में किए गए बदलाव पर काम करेंगे.

श्री राम मंदिर भूमि-पूजन में जाएंगे पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर भूमि-पूजन में शामिल होंगे. पीएम मोदी को ट्रस्ट की तरफ से न्योता भेजा गया है. हालांकि, पीएमओ की तरफ से अब तक आधिकारिक तौर पर कोई तारीख कंफर्म नहीं बताई गई है. लेकिन 5 अगस्त को पीएम मोदी जा सकते हैं. श्री राम मंदिर का भूमि-पूजन अभिजीत मुहूर्त में ‘सर्वार्थ सिद्धि योग‘ किया जाएगा. ताम्र कलश में गंगाजल और अन्य तीर्थों का जल लाकर पूजा की जाएगी. 3 अगस्त से पूजा-पाठ का काम शुरू हो जाएगा. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी भूमि-पूजन में शामिल होंगे.

श्री मंदिर के भूमि-पूजन में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास लगभग 40 किलो चांदी की श्रीराम शिला को समर्पित करेंगे. बताया जा रहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी चांदी की इस शिला का पूजन करेंगे और इसे स्थापित करेंगे. बताया जा रहा है कि साढ़े 3 फीट गहरे गड्ढे में पांच चांदी की ईंट रखी जाएंगी, जो 5 नक्षत्रों की प्रतीक होंगी. माना जाता है कि अभिजीत मुहूर्त में भगवान राम का जन्म हुआ था.श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अधिकारियों का कहना है कि राम मंदिर का नक्शा फाइनल होने के बाद 3 से साढ़े 3 साल के बीच निर्माण का काम पूरा हो जाएगा.

Jude We Support Narendra Modi Se

Narendra Modi Youtube Channel पर सब्सक्राइब करे – http://bit.ly/33vK9Q1

Narendra Modi Facebook पर लाइक – https://bit.ly/2xseTWp

Narendra Modi Twitter पर फॉलो करे – https://bit.ly/2QAWqO6

Narendra Modi Whatsapp पर ज्वाइन करे – https://bit.ly/2xqwUUK

आप अपने सवाल, सुझाव और निवेदन निचे दिए बॉक्स में कमेंट कर हम तक पंहुचा सकते है - https://bit.ly/2V24ABq